बरेली : उत्तराखंड के बागेश्वर में मिली एक हफ्ते से लापता युवक की लाश

बरेली के बहेड़ी कोतवाली क्षेत्र के जाम के रहने वाले नबी अहमद ने बताया कि उनका बेटा राशिद पेशे से टाइल्स मिस्त्री था जो कि एक साल पहले ही बागेश्वर चला गया था जहां पर राशिद दानिश के साथ रहकर काम करने के लगा।

ये भी पढ़ें- बंगाल चुनाव: पीएम मोदी की रैली में शामिल होंगे सौरव गांगुली !

18 फरवरी से म्रतक राशिद लापता हो गया था जिसमे उसके परिजनों ने बागेश्वर के बेजनाथ थाने में गुमशुदगी की तहरीर दी थी। राशिद के परिजनों ने बागेश्वर पुलिस पर आरोप लगाया कि जब हम लोग थाने गए तो बागेश्वर पुलिस ने म्रतक राशिद को तलाश करने के जगह राशिद के भाई और उसके पिता को थाने में बैठा लिया और उनकी पिटाई भी कर दी।आज सुबह में बेजनाथ थाना क्षेत्र में उसकी लाश सुनसान स्थान पर पड़ी मिली जिसमे उसके चेहरे को तेज़ाब से जला दिया गया था जिससे कि उसकी शिनाख्त ना हो सके ।म्रतक की शिनाख्त उसके कपड़ो से की गई जिसके बाद उसके घर वालों को उसकी मौत की सूचना दी।वही जब राशिद के परिजनों को उसकी मौत की सूचना मिली तो घर मे कोहराम मच गया ।वही राशिद के परिजनों ने म्रतक राशिद का साथी दानिश पर आरोप लगाया ही कि उसने राशिद का अपहरण करके उसकी हत्या कर दी ।बेजनाथ थाने की ने पुलिस आरोपी पकड़ने की जगह उल्टा हमे ही थाने में बैठा दिया था वही बेजनाथ पुलिस ने म्रतक का पोस्टमार्टम करवाकर लाश को उनके परिवार वालो को सौपकर मामले की जांच में जुट गई है.

Report -Fazalur Rahman

Related Articles

Back to top button