सुल्तानपुर : अपहरण कर बयान बदलने के जुर्म में तीन लोगों पर दस हजार का इनाम घोषित

खबर सुल्तानपुर से हैं जहाँ शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक ने अपने दिए गए प्रेस वार्ता में यह बताया कि सोशल मीडिया में चल रहे खबर का खंडन करते हुए बताया कि मामला दोनों भाईयों से सम्बंधित हैं, जहाँ पूर्व विधायक सोनू सिंह और यशभद्र सिंह मोनू के द्वारा कुचक्र करके और शिकायत करता के ऊपर ज़बरन दबाओ बनाते हुए माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन,प्रमुख सचिव गृह महोदय लखनऊ पुलिस महानिदेशक लखनऊ,पुलिस अधीक्षक महोदय सुल्तानपुर, जिला अधिकारी सुल्तानपुर को इस बात से अवगत कराया कि ये सब इनके विरोधियों ने साजिशन फर्जी रूप से इन दोनों भाईयों को फर्जी मुकदमे में फॅसा कर बदनाम करने के लिए किया जा रहा है। जबकि ये सब इनके लोगों के गुर्गे के द्वारा ये सब कारित किया गया है।

ये भी पढ़ें-एटा : आर्थिक तंगी के चलते पिता ने चाक़ू से गोदकर की अपनी 3 वर्षीय पुत्री की हत्या

बताते चलें कि वही पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शिकायतकर्ता ने अपने प्रार्थना पत्र में लिख कर जो दिया था जो अपने वीडियो में दिए गए बयान में बताया हैं कि मैं प्रार्थी बनारसी लाल सुत जगदीश प्रसाद निवास मायंग थाना-धनपतगंज कूरेभार सुल्तानपुर का रहने वाला हूँ, प्रार्थी दिनांक 25-2-2021 को सुबह करीब 9:00 बजे अपने घर में मौजूद था उसी समय प्रार्थी के घर के सामने से एक जेसीबी मशीन जा रही थी,जो की जगह कम होने के कारण प्रार्थी की दीवार से टकरा गई जिससे प्रार्थी की दीवार गिर गई प्रार्थी की दीवारों को गिरते देख किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा थाना स्थानीय पुलिस को सूचना दे दिया गया की कुछ अराजक तत्वों द्वारा प्रार्थी की जमीन पर बनी दीवार गिरा कर कब्जा कर लेने की बात की जा रही थी जिस पर थाना स्थानीय की पुलिस प्रार्थी के घर आई और तब प्रार्थी को बुला कर जबरन गाड़ी में बैठाकर थाने पर ले कर चली गई, थाने पर ले जाकर एक सादे कागज पर ज़बरन हस्ताक्षर बनवा लिया उस पर पुलिस द्वारा क्या लिखा गया वो पढ़ कर सुनाया भी नही गया प्रार्थी जब घर आया तो कुछ देर बाद पता चला कि प्रार्थी की तहरीर पर गांव के रहने वाले पूर्व विधायक चंद्र भद्र सिंह सोनू व यशभद्र सिंह मोनू सुतगण स्व:इंद्र भद्र सिंह पूर्व विधायक निवासी ग्राम मायंग थाना धनपतगंज कूरेभार के ऊपर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।और वहीं प्रार्थी ने कहा कि जबकि उपरोक्त दोनों भाईयों के द्वारा ना तो प्रार्थी की दीवाल गिराई गई ,ना जमीन कब्जा की गई और ना ही कोई जानमाल की धमकी दी गई है थाना स्थानीय पुलिस के द्वारा उक्त लोगों के खिलाफ कैसे मुकदमा दर्ज कर लिया गया इसकी जानकारी प्रार्थी को नही है यह सब ज़बरन उसपर दबाव बना कर इनके गुर्गों द्वारा कहलवाया और लिखाया गया था जिसपर पुलिस ने उक्त तीन लोगो पर इनाम घोषित किया है जिनके नाम क्रमशः दीपक सिंह उर्फ बब्लू, सूर्या प्रकाश सिंह उर्फ अंशु, तथा विजय यादव इन सभी के ऊपर 10000 हज़ार का इनाम घोषित कर दिया गया है और डिजिटल डाटा के आधार पर पर्याप्त आधार है की इनके द्वारा बनारसी लाल कसौधन को अपहरण कर ज़बरन दबाव बनाया गया था।

Report-Santosh Pandey

Related Articles

Back to top button