सुशासन बाबू की सरकार में शराब माफियाओं के हौसले बुलंद, पुलिस टीम पर हमले में दारोगा शहीद

बिहार में सुशासन बाबू की सरकार में अपराधियों, शराब माफियाओं (liquor mafia) और भ्रष्टाचारियों के हौसले बुलंदियों पर हैं. सुशासन का शोर मचाने वाली नीतीश कुमार की सरकार में जनता को छोड़िए खुद पुलिस वाले भी सुरक्षित नहीं हैं. वैसे तो बिहार में पूर्ण शराबबंदी है ये लेकिन अवैध शराब का कारोबार जमकर फल-फूल रहा है. कच्ची शराब बनाने से लेकर राज्य में दूसरे प्रदेशों से तस्करी के जरिए लाई गई शराब धड़ल्ले से बेची जाती है. इन्हीं शराब माफियाओं (liquor mafia) पर शिकंजा कसने वाली पुलिस के एक दारोगा को शराब माफियाओं ने मौत के घाट उतार दिया.

पूरा मामला सीतामढ़ी जिले के मेजरंगज थाना इलाके का है. दरअसल, शराब माफियाओं (liquor mafia) के साथ हुई मुठभेड़ में एक एसआई की मौत हो गई जबकि एक पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गया. मृतक असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर दिनेश राम मेजरगंज थाने पर तैनात थे. मुखबिर की सूचना पर कोआरी मदन गांव में छापेमारी के लिए पहुंची पुलिस पर शराब माफियाओं ने हमला बोल दिया और फायरिंग शुरू कर दी. जिसमें एसआई दिनेश राम की गोली लगने से मौत हो गई. जबकि, चौकीदार लालबाबू पासवान गंभीर रूप से घायल हो गए. आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां इलाज चल रहा है.

शराब माफियाओं (liquor mafia) के साथ हुई इस मुठभेड़ से इलाके में सनसनी फैल गई है. एक दारोगा की मौत हो जाने के बाद हरकत में आई पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है. पुलिस ने एक शराब माफिया रंजन सिंह को मुठभेड़ में मार गिराया है.

ये भी पढ़ें-वृन्दावन : दिव्य अमृत रस बरसेगा रसिया बाबा नगर में श्रीनाथ की अष्टयाम सेवा एवं फाग महोत्सव होंगे विशेष आकर्षण

डीएसपी सीतामढ़ी के मुताबिक, शराब माफियाओं (liquor mafia) पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस टीम मौके पर पहुंची थी. तभी दूसरी तरफ से फायरिंग शुरू हो गई जिसमें एक पुलिसकर्मी शहीद हो गया. जबकि दूसरा घायल हो गया. शहीद एसआई दिनेश राम मोतिहारी जिले के रहने वाले थे.

अब सवाल ये उठता है कि, आखिर प्रदेश में शराब बंदी होने के बाद भी शराब माफिया किसके संरक्षण में अवैध शराब का काला कारोबार कर रहे हैं.

Related Articles

Back to top button