हथेलियों व तलवों में आता हैं बहुत पसीना तो ये प्राकृतिक तरीके आपको दिलाएंगे इस समस्या से छुटकारा

अमूमन पीठ, पेट, अंडरआर्म समेत शरीर के कई अंगों में ज़्यादा पसीना आता है, लेकिन हथेली और तलवों में सामान्यतया किसी को पसीना नहीं आता. ऐसे में अगर किसी भी हथेली और तलवों में पसीना हो रहा है, तो इसे असामान्य घटना मान सकते हैं. वैसे सामान्य तापमान पर भी हथेली और तलवों में पसीना आना बिल्कुल सामान्य प्रक्रिया नहीं है, बल्कि यह किसी सेहत संबंधी समस्या का सूचक भी हो सकता है.

 

1. बेकिंग सोडा

पसीने वाले हाथों और पैरों के उपचार के लिए बेकिंग सोडा सबसे अच्छा घरेलू उपचार है। यह पसीने वाले हाथों को कम करने के लिए सस्ती तरीके से एक त्वरित और सस्ती उपचार है।  दांतों की सफाई और दांतों पर बेकिंग सोडा की प्रभावशीलता काफी ज्ञात है, लेकिन किसी को यह पता नहीं हो सकता है कि बेकिंग सोडा एक एंटीपर्सपिरेंट और डिओडोरेंट के रूप में भी काम करता है।

2. एप्पल साइडर सिरका

यदि आप हाइपरहाइड्रोसिस की स्थिति से पीड़ित हैं, तो सेब साइडर सिरका आपके शरीर में पीएच स्तर को संतुलित करके आपकी हथेलियों और पैरों में पसीने को नियंत्रित कर सकता है। यह त्वचा के छिद्रों को टाइट रखने में मदद करता है, इसलिए कम पसीना आता है। पसीने से तर हाथ और पैरों से निपटने के लिए इस प्राकृतिक उपाय को रोजाना आजमाएं।

3. नींबू

पसीने वाले हाथों और पैरों की समस्या को नियंत्रित करने के लिए नींबू का उपयोग बहुत तरीकों से किया जा सकता है। प्रभावित क्षेत्र को सुखाने के लिए नींबू और संतरे के छिलकों का उपयोग करें।  तो उन पर कुछ पाउडर डस्ट करें। नमक के साथ नींबू का रस मिलाएं और इसे अपने हाथों पर मलें। सूखने के बाद इसे कुल्ला।

4. गुलाब जल

गुलाब जल भी एक घरेलू उपाय है जो पसीने से तर हाथ धोने में मदद कर सकता है। आपको कोशिश करनी चाहिए कि आप बाजार से शुद्ध शीशम का उपयोग करें या पानी में गुलाब की पंखुड़ियों को उबालकर और छलनी करके अपना बना लें। अपनी हथेलियों और पैरों पर गुलाब जल लगाने के लिए एक कपास झाड़ू लें। यह आपकी त्वचा पर एक ठंडा और आराम की अनुभूति छोड़ता है।

Related Articles

Back to top button