Farmers Protest: संयुक्त किसान मोर्चा का बड़ा ऐलान- पेट्रोल-डीजल की कीमतों के खिलाफ 15 मार्च को प्रदर्शन, 26 मार्च को करेंगे…

नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान (Farmers) पिछले तीन महीने से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत हैं. किसान संगठन आंदोलन में और तेजी लाने के लिए नए सिरे से अपनी रणनीति तैयार कर रहे हैं. बीते बुधवार को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक हुई . किसान (Farmers) मोर्चा ने बैठक में किसान आंदोलन के आगे के कार्यक्रम की रुपरेखा तैयार की है.

बैठक होने के बाद किसान नेता दर्शन पाल बोले कि नए कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसानों (Farmers) के आंदोलन को चार महीने 26 मार्च को पूरे हो जाएगें, जिसके बाद किसान संगठनों ने 26 को भारत बंद करने का ऐलान किया है.

Farmers

बता दें कि किसान संगठन 15 मार्च को कॉरपोरेट विरोधी दिवस मनाएगा. संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि किसान अपने-अपने क्षेत्र में पेट्रोल, डीजल ,रसोई गैस और अन्य वस्तुओं के बढ़ते हुए मुल्यों के खिलाफ डीएम और एसडीएम को ज्ञापन सौपेंगे.

वहीं, 15 मार्च को मजदूर संगठन ने ऐलान किया है कि, 15 मार्च को पूरे देशभर के रेलवे स्टेशनों पर मजदूर संगठन किसान संगठनों के साथ निजीकरण के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेंगे. 17 मार्च को मजदूर संगठनों व अन्य अधिकार संगठन के साथ 26 मार्च को प्रस्तावित भारत बंद को सफल बनाने के लिए एक कन्वेंशन की जाएगी.

ये भी पढे़-बाँदा : बम-बम भोले के जयकारों से गूंजा जिला

किसान नेता दर्शन पाल ने कहा कि 19 मार्च को मुजारा लहर का दिन मनाया जाएगा और एफसीआई (FCI) और खेती बचाओ कार्यक्रम के तहत पूरे देशभर की मंड़ियों में विरोध प्रदर्शन होगा. वहीं 23 मार्च को शहीद भगत सिंह दिवस पर पूरे देशभर के नौजवान दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के साथ प्रदर्शन में शामिल होंगे.

बता दें कि किसान संगठन 28 मार्च को देशभर में होलिका दहन पर किसान (Farmers) विरोधी कानून की प्रतियां जलाएगा.

Related Articles

Back to top button