फिरोजाबाद : नकली नोट बनाने के गिरोह का पुलिस ने किया भंडाफोड़

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में नकली नोट बनाने के गिरोह का पुलिस (Police) ने भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने नकली नोट बनाने के गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से पुलिस ने एक लाख 92 हजार रुपए के नकली नोट बरामद किए हैं। साथ ही नकली नोट छापने के उपकरण और कुछ अधछपे नोट भी बरामद किए हैं। इन नकली नोटों को पंचायत चुनाव में खपाने की तैयारी थी।

 

फिरोजाबाद के थाना शिकोहाबाद क्षेत्र के आवास—विकास कॉलोनी के सामने एक मकान में नकली नोट छापने की सूचना पर पुलिस (Police) ने छापेमारी की। पुलिस ने तजेन्द्र गैंग के सरगना तजेन्द्र उर्फ काका पुत्र हरभजन सिंह निवासी गुरुद्वारा सिंह साहब ब्लाक 9 मोतीनगर नई दिल्ली समेत पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जानकारी देते हुए एसएसपी अजय कुमार पांडे ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों ने अपने नाम संतोष उर्फ सलीम पुत्र मैकूलाल निवासी आवगंगा ओमनगर शिकोहाबाद, जितेन्द्र पुत्र रामकेश कठेरिया निवासी मैनपुरी चौराहा ओमनगर शिकोहाबाद, दिलीप उर्फ छोटे पुत्र पातीराम निवासी आवास विकास कॉलोनी थाना शिकोहाबाद, दीपक उर्फ गुड्डू पुत्र रामवीर निवासी हीरानगर शिकोहाबाद हैं।

ये भी पढ़ें-अलीगढ़ : विकास कार्यों में बहुत बड़ा घोटाला, प्रधान ने 70 शौचालयों के पैसों का डकारा

इनके पास से एक लाख 92 हजार के नकली नोट बरामद किए गए हैं। एसएसपी ने बताया कि तजेन्द्र वर्ष 2000 में पहली बार अपराध करके जेल गया था। जेल से आने के बाद उसने नकली नोट छापने का काम शुरू कर दिया था। वर्ष 2006 में कमला मार्केट व वर्ष 2012 में दिल्ली के विजय बिहार थाना क्षेत्र से जेल गया था। लंबे समय से तिहाड़ जेल में भी रहा। वर्ष 2017 में फिरोजाबाद के थाना दक्षिण से भी वह नकली नोट छापने के मामले में जेल गया। कुछ दिन पहले जेल से आने के बाद साथी संतोष उर्फ सलीम आदि की मदद से फिर नकली नोट छापना शुरू कर दिया। पुलिस ने आरोपियों को जेल भेजा है।

पुलिस अधीक्षक के बयान से एक नई बात सामने आई है नकली नोट छापने बाले जेल गए ऑर्डर देने बाले कहाँ गए आखिर बो कोन है जो नकली करोड़ों नॉट छपवाने का कार्य कर रहा था उस पर कब कार्यवाही होगी।

रिपोर्ट-बृजेश सिंह राठौर

Related Articles

Back to top button