बरेली: दहेज के खिलाफ दरगाह ने जारी किया फरमान, बेशुमार खर्च वाली शादियों में निकाह न पढ़ाएं काजी

सुन्नियत के मरकज कहे जाने वाले बरेली की विश्व प्रसिद्ध दरगाह आला हजरत पर गुरूवार को उलेमाओं का जमावड़ा लगा। दरअसल कुछ दिन पहले दरगाह (Dargah) की तरफ से शादी में बढ़ती दहेज़ की मांग, बैंड-बाजा, डीजे व आतिशबाजी, खड़े होकर खाने के खिलाफ एक अपील की गई थी। जिसके जरिए काज़ी और मौलवियों से ऐसे आयोजनों में निकाह न पढ़ाने फरमान जारी किया गया था, वहीं अब दरगाह से हुए इस ऐलान को अमली जामा पहनाने के लिए उलेमा एक मंच पर दिखाई दिए।

ये भी पढ़ें-अलीगढ़ : विकास कार्यों में बहुत बड़ा घोटाला, प्रधान ने 70 शौचालयों के पैसों का डकारा

 

दरगाह (Dargah) प्रमुख मौलाना सुब्हान रज़ा खान सुब्हानी मियां की सरपरस्ती और सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन रज़ा क़ादरी अहसन मियां की सदारत एक बैठक बुलाई गई, जिसमें सभी ने एक राय होकर सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन मियां की अपील पर हाथ उठाकर हिमायत की। शहर की मस्जिदों से दरगाह का पैगाम पूरी कौम तक पहुंचाने का आह्वान भी किया गया। दरगाह के प्रवक्ता नासिर कुरैशी ने बताया कि जो लोग शादी बारातों में शरीयत के खिलाफ काम करेंगे उनका सामूहिक बहिष्कार किया जाएगा।

Report – Fazalur Rahman

Related Articles

Back to top button