संसद पहुंचा पश्चिम बंगाल का सियासी घमासान, स्वपन दास गुप्ता का राज्यसभा से इस्तीफा, TMC ने उठाए थे सवाल

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में स्वपन दास गुप्ता (Swapan Das Gupta) को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के उम्मीदवार बनाए जाने के बाद सियासी घमासान मच गया है, जो अब संसद (Parliament) पहुंच गया है। मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस (TMC) राज्यसभा में सांसद स्वपन दास गुप्ता की सदस्यता रद्द करने का प्रस्ताव लाने वाली थी। इससे पहले ही सांसद स्वपन दास गुप्ता ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अपना इस्तीफा राज्यसभा चेयरमैन को भेजा है। हालांकि, अभी तक उनके इस्तीफे के मंजूर होने की जानकारी नहीं मिल सकी है।

ये भी पढ़ें –लखनऊ-सुलतानपुर NH पर चलती ट्रक में टकराई कार, मामा-भांजे की हुई मौत

दरअसल, बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने स्वपन दासगुप्ता (Swapan Das Gupta) को हुगली की तारकेश्वर विधानसभा सीट से टिकट दिया है, जिस पर टीएमसी ने सवाल उठाए थे। टीएमसी ने कहा था कि स्वपन दास गुप्ता मनोनीत सांसद हैं। ऐसे में उनका बीजेपी की ओर से चुनाव लड़ना संविधान के खिलाफ है।

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने संविधान के नियमों का हवाला देते हुए स्वपन दास गुप्ता को अयोग्य करार देने की मांग की थी। महुआ मोइत्रा ने सोशल मीडिया पर कहा कि स्वपन दास गुप्ता पश्चिम बंगाल चुनावों के लिए भाजपा के उम्मीदवार हैं, जबकि संविधान की 10वीं अनुसूची कहती है कि राज्यसभा का मनोनीत सांसद शपथ लेने और उसके 6 महीने की अवधि खत्म होने के बाद अगर किसी भी राजनीतिक पार्टी में शामिल होता है, तो उसे राज्यसभा की सदस्यता के लिए अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा।

वहीं, इन आरोपों के बाद स्वपन दास गुप्ता ने सफाई देते हुए कहा था कि मैंने अभी नामांकन नहीं भरा है, नामांकन से पहले सारे विवादों को खत्म कर लिया जाएगा।

राज्यसभा से इस्तीफा देने के बाद स्वपन दास गुप्ता ने कहा कि ‘एक बेहतर बंगाल की लड़ाई के लिए खुद को पूरी तरह से प्रतिबद्ध करने के लिए मैंने आज राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है और अगले कुछ दिनों में तारकेश्वर विधानसभा सीट से बीजेपी उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल करूंगा।’

Related Articles

Back to top button