अमेठी: गरीबों का राशन डकार रहा है कोटेदार ग्रामीणों ने लगाया घटतौली का आरोप

अमेठी में गरीबों के राशन में खेल यूनिट से कम मिल रहा गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों को अनाज। ग्रामीणों ने कोटेदार पर घटतौली व गाली गलौज करने का लगाया आरोप। ग्रामीणों ने एसडीएम को दिया लिखित शिकायत। एसडीएम बोले जाचोपरान्त होगी उचित कार्यवाही।

अमेठी में सरकारी राशन (ration) के वितरण में अजीबो-गरीब मामला सामनें आया है। ग्रामीणो ने कोटेदार पर आरोप लगाया है कि कोटद्वार यूनिट से कम राशन तौलकर गरीबों को दे रहा।

पीड़ित शिवकुमार मोहम्मदपुर गांव का रहने वाला है

भुक्तभोगियों ने इसकी शिकायत किया तो कोटेदार ने उन्हें भगा दिया। ये पूरा मामला अमेठी संसदीय क्षेत्र के जगदीशपुर ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत माहेमऊ का है। जहां पर पीड़ित शिवकुमार मोहम्मदपुर गांव का रहने वाला है।

ये भी पढ़ें-बरेली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी ,कपड़ा व्यापारी निकला बाइक चोर गिरोह का मास्टरमाइंड

महमूद के कोटे से इन्हे राशन (ration)  मिलता है, वो बताते है की आता है 15 किलो राशन लेकिन मिलता उन्हें 10 ही किलो है।कोटेदार पांच किलो गल्ला काटकर देता है,

बुजुर्गी के आलम में कोटेदार इन्हें भी अपना शिकार बना रहा

कहने पर कहता है लेना है तो लो वरना जाओ हटो यहां से।वहीं गुरुदीन भी इसी गांव के निवासी हैं। बुजुर्गी के आलम में कोटेदार इन्हें भी अपना शिकार बना रहा। वो बताते हैं की 20 किलो की जगह 18 किलो और 15 किलो की जगह 12 किलो गल्ला ही मिल है।

लाल कार्ड होने के बावजूद पूरा गल्ला नही मिल रहा हैं। कोटे की दुकान पर छोटे बच्चे तौल रहे है उनसे कहो कम है तो वो कहते हैं दादा तुम कानून बहुत कर रहे हो।

हद तो तब हो गई जब इसी ग्राम सभा के निवासी हरीराम ने बताया कि तीन चार महीनों से उसे राशन नही मिला और कोटेदार से कहा तो वो कहता है की राशन कार्ड ही सही नही है। मजदूरी करके पेट पालने वाले हरीराम कहते हैं की महंगा अनाज खरीद कर खा रहे क्या करें भूखे मरें।

वहीं जब इस पूरे मामले पर एसडीएम मुसाफिरखाना सुनील त्रिवेदी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि, कोटेदार के खिलाफ शिकायत मिली है। मैं आपूर्ति निरीक्षक की अध्यक्षता में टीम लगाकर जांच करा लूंगा। और अगर दोषी पाया जाता है तो कोटेदार के विरूद्ध उचित व विधिक कार्यवाही की जाएगी।

रिपोर्ट- हंसराज सिंह

Related Articles

Back to top button