इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति की नींद में अजान से खलल, DM को लिखा कार्रवाई के लिए पत्र

मशहूर गायक सोनू निगम ने अजान को लेकर जो बातें कभी कहीं थीं उससे बड़ा बवाल खड़ा हुआ था। वैसा ही कुछ अब इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति ने कहा है। अलसुबह मस्जिद के लाउडस्पीकर से गूंजने वाली अजान की आवाज इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुलपति की नींद में खलल डाल रही है। इससे परेशान होकर कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव ने प्रयागराज के जिलाधिकारी को पत्र (letter) लिखकर कार्रवाई की मांग की है।

कुलपति ने जिलाधिकारी को भेजे गए पत्र (letter) में कहा है कि रोज सुबह लगभग साढ़े पांच बजे उनके आवास के समीपवर्ती मस्जिद से लाउडस्पीकर पर होने वाली अजान से उनकी नींद इस तरह बाधित हो जाती है कि उसके बाद तमाम कोशिश के बाद भी वह सो नहीं पातीं। जिसकी वजह से उन्हें दिनभर सिरदर्द बना रहता है और कामकाज भी प्रभावित होता है।

ये भी पढ़े-आजमगढ़: अवैध अतिक्रमण के खिलाफ प्रशासन सख्त, बस अड्डे के सामने बने पिंक शौचालय के आड़ में अवैध अतिक्रमण हटा

पत्र (letter) में आगे कहा है कि एक पुरानी कहावत, ‘आपकी स्वतंत्रता वहीं खत्म हो जाती है जहां से मेरी नाक शुरू होती है’, यहां बिल्कुल सटीक बैठती है। कुलपति ने पत्र में यह भी स्पष्ट किया है कि वह किसी सम्प्रदाय, जाति या वर्ग के खिलाफ नहीं हैं। वह अपनी अजान लाउडस्पीकर के बगैर कर सकते हैं जिससे दूसरों की दिनचर्या प्रभावित न हो। आगे ईद से पहले सहरी की घोषणा भी सुबह चार बजे होगी। यह भी उनके और दूसरों की परेशानी की वजह बनेगा।

पत्र (letter) में कुलपति ने यह भी कहा है कि भारत के संविधान में सभी वर्ग के लिए पंथनिरपेक्षता और शांतिपूर्ण सौहार्द की परिकल्पना की गई है। उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश (पीआईएल नंबर- 570 ऑफिस 2020) का हवाला भी दिया है। साथ ही कहा है कि आपकी (जिलाधिकारी) त्वरित कार्रवाई की बड़े स्तर पर सराहना होगी और प्रभावित लोगों को लाउडस्पीकर के तेज आवाज से होने वाली अनिद्रा से निजात व शांति मिलेगी।

इस बारे में डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने कहा कि कुछ दिनों पहले एक लेटर मिला था। इस प्रकरण में संबंधित अधिकारी को जांच कर वैधानिक कार्रवाई करने का लिए निर्देश दिया गया है। जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी के अनुसार इस प्रकरण से जुड़ा पत्र प्राप्त हुआ है। जिसे अभी देखा है। नियम संगत कार्रवाई की जाएगी।

रिपोर्ट-नितिन द्विवेदी

Related Articles

Back to top button