भारत की वो नदी, जिसमें पानी के साथ बहता है सोना

भारत में एक ऐसी नदी है, जिसकी रेत से सैकड़ों साल से सोना (Gold) निकाला जा रहा है। हालांकि, रेत में सोने के कण होने की वजह का आज तक पता नहीं चल सका है। भूवैज्ञानिकों के मुताबिक, नदी चट्टानी इलाकों से गुजरती है। इस दौरान सोने के कण नदी के पाने में घुल जाते हैं। बता दें कि ये नदी भारत के तीन राज्यों से होकर गुजरती है।

हमारे देश में कई नदियाँ हैं और हर नदी की एक अलग कहानी सुनने को मिलती है। गंगा नदी को सबसे पवित्र नदी कहा जाता है, जिसके बारे में हर कोई जानता है। इसके अलावा और कई नदियां हैं जैसे कि नर्मदा, कावेरी, गोदावरी, सरस्वती आदि।

ये भी पढ़ें- अगर आप भी हैं किडनी स्टोन से परेशान तो जरूर करें कुंदरू का सेवन

लेकिन बहुत कम लोग जानते होंगे कि भारत में एक ऐसी नदी भी है, जो अपने अंदर सोना (Gold) लेकर बह रही है। जी हां, स्वर्ण रेखा नाम की नदी झारखंड में रत्नगर्भा नामक स्थान पर बहती है। सदियों से नदी के पानी में सोने के कण बह रहे हैं। साथ ही, सालों से नदी की रेत से सोना निकाला जा रहा है।

यह नदी झारखंड, पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के कुछ क्षेत्रों में बहती है। कहीं-कहीं इसे सुवर्ण रेखा के नाम से भी जाना जाता है। इस पूरे क्षेत्र के आदिवासी दिन-रात इन सोने के कणों को इकट्ठा करते है और स्थानीय व्यापारियों को बेचकर जीवन निर्वाह करते है। हालांकि, कोई भी इस रहस्य का प्रमाण नहीं पा सका कि यह सोना (Gold) कहां से आता है?

Related Articles

Back to top button