मथुरा: कान्हा के गांव में चरम पर होली का उल्लास

मथुरा- उड़त गुलाल लाल भये बदरा..गुलाल, रंग, प्रेम और श्रद्धा का ऐसा संगम कि हर कोई कान्हा के गांव में होली की मस्ती में मस्त होकर झूम उठा। बरसाना की हुरियारिनों ने हुरियारों पर लाठियों की बरसात शुरू की तो मयूरी थिरकन पर लाठियों के प्रहार को अपनी ठाल पर सेहते हुए हुरियारे ब्रज की होली के वास्तविक आनंद से श्रद्धालुओं को सराबोर कर रहे थे।

ब्रज के बरसाना गांव में होली एक अलग ही तरह से खेली जाती है। जिसे लठमार होली कहते हैं। ब्रज में वैसे भी होली खास मस्ती भरी होती है क्योंकि इसे कृष्ण और राधा के प्रेम से जोड़कर देखा जाता है।

यहां की होली में मुख्यत: नन्दगांव के पुरुष और बरसाने की महिलाएं भाग लेती हैं। क्योंकि कृष्ण नंद गांव के थे और राधा बरसाने की थी नंद गांव की टोलियां जब पिचकारियां लिए बरसाना पहुंचती हैं, तो उन पर बरसाने की महिलाएं खूब लाठियां बरसाती हैं।

पुरुषों को लाठियों से बचना होता है और साथ ही महिलाओं को रंगों में भिगोना होता है। नंद गांव और बरसाने के लोगों का विश्वास है कि होली की लाठियों से किसी को चोट नहीं लगती है अगर चोट लगती है तो घाव पर मिट्टी लगा दीजिए और फिर घाव सही हो जाते हैं। इस दौरान भांग ठंडाई का भी खूब प्रयोग होता है। कीर्तन मंडली कान्हा बरसाने में आय जइयो बुलाय गई राधा प्यारी , फाग खेलन आये है नटवर नंद किशोर और उड़त गुलाल लाल भए बदरा – जैसे गीत गाए जाते हैं कहा जाता है कि सब जग होरी , जा ब्रज होरा याने ब्रज की होली सबसे अनूठी होती है।

 

विश्व प्रसिद्ध बरसाना की लट्ठमार होली बड़े ही उत्साह और उमंग के साथ खेली गई। राधारानी रुपी गोपियों ने नंदगाँव के हुरियारों पर जमकर लाठियां बरसाईं। हंसी ठिठोली ,गाली,अबीर गुलाल तथा लाठियों से खेली गई | होली का आनंद देश-विदेश से कोने-कोने से आये श्रद्धालुओं ने जमकर आनंद लिया। होली के गीत गाते ये लोग नंदगाँव के कृष्णा रुपी हुरियारे जो की बरसाना मै राधा रुपी गोपियों के साथ होली खेलने आये है।

Related Articles

Back to top button