महिला ने दर्ज कराई शिकायत, पति की मौत के बाद उनके भाईयों ने हड़प ली वसीयत

सिद्धार्थनगर जिले में मृतक व्यक्ति द्वारा रजिस्टर्ड वसीयत करने का मामला सामने आया है।जिले के शोहरत गढ़ तहसील के जोगी बारी गांव निवासी महिला शीला देवी ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देकर फर्जी रजिस्टर्ड वसीयत कराने का आरोप अपने मृतक पति के बड़े भाई के लड़कों द्वारा पति के मृत्यु के बाद फर्जी व्यक्ति को खड़ा करके फर्जी तरीके से अपने नाम वसीयत कराने के आरोप लगाया है।

महिला का कहना है वो अपने पति के साथ गाजियाबाद में रहती थी।उसके 3लडकिया है।पति की तबियत खराब होने के बाद 2016 में ही मौत हो गयी।अब 2020 में जब वो अपने गांव आयी तो उसको मृतक पति के बड़े भाई के लड़के ने घर मे नही घुसने दिया और वसीयत का हवाला दिया।

3 लड़कियों के साथ खुले आसमान के नीचे ही रहना पड़ रहा है

जब मैंने तहसील से जांच करवाया तो पता चला कि मेरे पति की जगह जिसका फ़ोटो फर्जी वसीयत में लगाया गया है वो किसी बुजुर्ग व्यक्ति का है मेरे पति की मौत करीब 45 साल के उम्र में हुई है तो वो बुजुर्ग कैसे हो गये।इसी फर्जी वसीयत के बल पर अब मुझे अपनी 3 लड़कियों के साथ खुले आसमान के नीचे ही रहना पड़ रहा है।

ये भी पढ़ें-मॉर्निंग वॉक करने निकले युवक को तेज रफ्तार वाहन ने मारी हुई मौत,परिजनों ने किया हाइवे को जाम

हिस्से का कमीशन लेने के लिये ही नियुक्त किये जाते है

वही जिलाधिकारी ने बताया कि एक महिला ने अपने जमीन की फर्जी वसीयत कराये जाने की शिकायत की उसकी जांच करायी जाएगी जो सही होगा उसके अनुसार कार्यवाही करेंगे।

अब जांच के बाद कार्यवाही तो करने की बात जिलाधिकारी कर रहे है लेकिन अगर महिला का आरोप सही है तो क्या तहसील मुख्यालयों पर रजिस्ट्री आफिसो में बैठे रजिस्टार सिर्फ आँख बंद कर अपने हिस्से का कमीशन लेने के लिये ही नियुक्त किये जाते है।

एक बड़ा सवाल ये भी है कि आखिर एक जवान मृतक व्यक्ति की जगह आखिर किसी फर्जी व्यक्ति जो महिला के अनुसार बुजुर्ग है कैसे रजिस्ट्री आफिस में पहुचकर बिना किसी डर के वसीयत करके चला भी गया।क्या वसीयत के समय वहां मौजूद जिम्मेदार अधिकारियों को नौजवान की जगह बुजुर्ग व्यक्ति दिखा भी नही या देखना ही नही चाहा।

Related Articles

Back to top button