वास्तु शास्त्र: घर में मंदिर बनाते समय इन बातोंं का रखें खास ध्यान

हिंदू धर्म में मूर्ति पूजन का विशेष महत्व है। कई बार लोगों से अनजाने में कई ऐसी गलतियां हो जाती हैं जो उनके लिए बढ़ी मुसीबत बन जाती है आजकल ज्‍यादातर लोग घरों में पूजा-पाठ करते है। वहीं घर में पूजा करन के लिए हम घरों में कई सारी मूर्तियां भी रखते हैं। लेकिन क्या आपको पता है  कई बार लोग मंदिर (temple) को सजाने और उसे घर में स्थापित करने के दौरान ऐसी गलतियां कर जाते हैं, जिनके बारे में उन्हें कुछ खास मालूम भी नहीं होता है। आज हम बताएंगे कि घर में मंदिर बनाते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

ये भी पढ़ें- सहकारी चीनी मिल फेडरेशन में चल रहा गोलमाल

1. वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में मंदिर (temple)  का स्थान हमेशा उत्तर-पूर्व में होना चाहिए।

2. वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में पूजा स्थल पर गलती से भी खंडित मूर्तियां नहीं रखना चाहिए।

3. वास्तु के मुताबिक भूलकर भी बेडरूम में भगवान की मूर्ति नहीं रखनी चाहिए।

4. वास्तु के मुताबिक भूलकर भी पूजा घर को कभी भी घर की पश्चिम और दक्षिण दिशा में नहीं बनाना चाहिए।

5. घर का मंदिर (temple) हमेशा लकड़ी का रखें। वास्तु के मुताबिक लड़की गुड लक लाती है। अगर आप संगमरमर का मंदिर रखना चाहते हैं तो वो भी रख सकते हैं। इससे भी घर में शांति और खुशी आती है।

6.दिर में जलने वाला दिया हमेशा मंदिर (temple) के दक्षिण-पूर्वी दिशा में रखना चाहिए। इससे मंदिर के हर एक कोने में रौशनी जाती है और ये धन-दौलत, खुशी और पॉज़िटिविटी लाता है।

Related Articles

Back to top button