मथुरा: श्रीमद् भागवत कथा में बामन भगवान का प्राकट्य उत्सव बड़े धूमधाम से मना

ब्राह्मण सेवा संघ शिविर में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में बामन भगवान का प्राकट्य उत्सव बड़े धूमधाम से मनाया। कार्ष्णि नागेन्द्र जी महाराज ने कहा रामचरित्र मानस हमें जीना सिखाती है और भागवत हमें मरना सिखाती है कि हम इस दुनिया से जाएं तो कैसे जाएं हमारा मरना मरना नहीं उस परमात्मा से मिलना हो जाए।

सुखदेव जी जैसे गुरु मिले तो परीक्षित धन्य हो गए

परमात्मा की कृपा के लिए गुरु का जीवन में आना अत्यंत आवश्यक है जिस पर गुरु की कृपा हुई है उस पर परमात्मा ने कृपा अवश्य की है परीक्षित को सुखदेव जी जैसे गुरु मिले तो परीक्षित धन्य हो गए ।

ये भी पढ़ें-अमेठी: बस ड्राइवर की लापरवाही से डबल डेकर बस अनियंत्रित हो कर पलटी

7 दिन में ही गुरु की कृपा से मोक्ष को प्राप्त कर लिए ध्रुव चरित्र अजामिल उपाख्यान भरत जी की कथा समुद्र मंथन अंत में बामन भगवान की कथा में बामन भगवान की दिव्य झांकी के द्वारा बामन भगवान का उत्सव पूजन आरती के साथ संपन्न हुआ ।आनंद बल्लभ गोस्वामी जी ने कहा कथा उत्तम है और उत्तम अधिकारी से प्राप्त होनी चाहिए अधिकारी वक्ता अगर भागवत कथा करने वाला मिल जाए।

आगंतुक अतिथियों का पूजन भागवत पूजन करते हुए आनंदित

इससे बड़ी परम सौभाग्य की बात और क्या होगी कथा के मुख्य यजमान नंदलाल कुमावत जयपुर से आकर कल्पवास कर कथा में आगंतुक अतिथियों का पूजन भागवत पूजन करते हुए आनंदित हो रहे हैं ।

Related Articles

Back to top button