सुल्तानपुर: मैं चाहती हूँ पंचायत चुनाव में पार्टी अधिकृत प्रत्याशी जीते जो बिना पैसा लिए जिला परिषद अध्यक्ष को वोट दे – मेनका संजय गांधी

खबर सुल्तानपुर से है जहाँ पूर्व केंद्रीय मंत्री व सुल्तानपुर सांसद मेनका गांधी (Maneka Gandhi) ने अपने क्षेत्र के दौरे के पांचवे व अंतिम दिन जगह-जगह हुई चौपालों में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मतदान में बढ़ चढ़कर भागीदारी करने एवं ईमानदार जनप्रतिनिधियों को चुने जाने की वकालत की। श्रीमती गांधी धनपतगंज ब्लाक के वार्ड 24 की प्रत्याशी सुनीता सिंह के समर्थन में मझवारा, भण्डरा एवं पाली में जनसंपर्क किया और भारी बहुमत से जिताने की अपील की।

श्रीमती गांधी तत्पश्चात ग्राम पंचायत सरैया- मझौवा में महिला प्रधान प्रत्याशी उषा सिंह एवं जिला पंचायत वार्ड 22 की प्रत्याशी सोनपती को जिताने की अपील करते हुए कहा कि इन महिलाओं का जीतना बहुत जरूरी है।ऐसे प्रधान चुनिए जिन पर मैं भी रौब जमाउँ कि ये पैसा चोरी नही होगा गांव के विकास में खर्च होगा।

ये भी पढें-दुखद : इतिहासकार पद्मश्री योगेश प्रवीण का निधन

जनचौपाल में उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों का ईमानदार होना जरूरी है। मान लीजिए कोई अध्यक्ष बनने के लिए सदस्यों को खरीदता है तो क्षेत्र व जिले का विकास कैसे होगा। जो पैसा देकर अध्यक्ष बनेगा वह विकास के लिए आपको धन क्यों देगा। वह विकास के लिए आने वाले पैसे से अपना घर बनाने में, अपनी बीवी के जेवर लेने में, अपने घर के अगल-बगल नाली खड़ंजा बनाने में खर्च करेगा और क्षेत्र विकास से वंचित रह जाएगा।

बताते चले की साथ ही उन्होंने कहा कि पीलीभीत से जब मैं सांसद थी तो वहां कोई भी सदस्य पैसा नहीं मांगता था। बिना पैसे के परिषद अध्यक्ष बन जाते थे। और उस पैसे से वहां सड़क,नाली,तलाब पक्के मकान के लगभग 50 करोड़ के काम होते थे।मान लीजिए हर सदस्य को साल भर में डेढ़ करोड़ लगभग मिलना चाहिए, इस हिसाब से पांच साल में हर क्षेत्र को सात करोड़ रुपये मिलेगें। इस पैसे से हम गांवों में नाली, सड़क, खड़ंजा विधवाओं के पक्के मकान बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि मैं यहां इतिहास बदलने आई हूं। पंचायत चुनाव में यहां खुशी का माहौल है।लोकतंत्र में हर कोई खड़ा हो सकता है।

आप मुझे न जिताते तो यह शक्ति न पैदा होती। आप जानते हैं भगवान जब चाहते हैं तभी ऐसी शक्ति पैदा होती है। इस चुनाव में इतिहास बदलना है।मैं चाहती हूं पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी जीते जो अध्यक्ष को पैसे लिए बिना वोट दें और वह पैसा हम लोग सड़क नाली खड़ंजा विधवाओं के लिए पक्के मकान बनाने में खर्च करें।

इस क्षेत्र को बदलना है।सांसद ने कहा कि मैं आपकी मां हूं, मुझे दुख होता है जब कोई औरत मेरे पास आती है कि मुझे नल नाली खड़ंजा चाहिए लेकिन मेरे पास नल नहीं है मेरे पास खड़ंजा नहीं है। मैं बड़ी-बड़ी सड़के तो आपके लिए बना सकती हूं। अभी 160 करोड़ रुपये की 128 किलो मीटर सड़क लाई हूं लेकिन गांव के अंदर आप बोलेंगे नाली बना दो तो मेरे पास इजाजत नही है। यह काम जिला परिषद कर सकती है। यदि हम लोग जिला परिषद का ताला खोलकर चाभियां सब में बांट दें तो मेरे लिए आसान होगा।

ये भी पढ़ें-अलीगढ़ : देर रात उपद्रवियों ने मस्जिद को बनाया निशाना, जमकर की पत्थरबाजी

तो वही श्रीमती मेनका गांधी (Maneka Gandhi) ने उपस्थित भीड़ से कहा कि वह अपने संसदीय क्षेत्र में हर 15 दिन में आती हूं। और यहां तीन-चार दिन तक रहती हूं।आप सबका जब भी कोई काम हो कभी भी आ सकते हैं।मेरी अनुपस्थिति में जिला पंचायत परिसर में मेरा दफ्तर है वहां आप अपनी लिखित शिकायत दीजिए मैं उसे देखूंगी सबका काम होगा।

सांसद मेनका संजय गांधी (Maneka Gandhi)  ने वार्ड 19 की प्रत्याशी मीरादेवी के समर्थन मे इरूल , वार्ड 35 की प्रत्याशी कुसुमलता मौर्या के समर्थन में कचनावां एवं वार्ड 30 की प्रत्याशी विजय कुमारी सिंह के समर्थन में अलीगंज में चौपाल लगाकर क्षेत्रवासियों से जिताने की अपील की। इस मौके पर भाजपा जिला उपाध्यक्ष प्रवीन कुमार अग्रवाल, संजय सिंह त्रिलोकचंदी, रामदुलार पाठक, संदीप तिवारी ,हेमंत सिंह अटल,अवधेश त्यागी, कल्लू पांडेय, संजय सिंह, बीडी सिंह, अवधेश सिंह,अंजनी तिवारी, सोनू पांडेय, विनोद सिंह, सुभाष सिंह आदि मौजूद रहे।

बताते चले की धनपतगंज की ग्राम सभा सरैया मझौवा में भ्रमण दौरान पहुँची सांसद मेनका गांधी यहां महिलाओं की भारी भीड़ देख काफी खुश दिखी। प्रधान प्रत्याशी उषा सिंह के चुनाव निशान अनाज ओसाता किसान का जिक्र करते हुए सामने बैठी महिलाओं से पूछा कि अनाज तो समझ रहीं ये ओसाता क्या है।

जब महिलाओं ने अपनी भाषा में उन्हें बताया तो वे जोर से हँसने लगी फिर सभा समाप्ति बाद जाते जाते महिलाओं से फिर मुखातिब हुईं और हँसते हुए कहा कि अनाज ओसाता हुआ किसान याद रखना तभी सभी लोग हँसने लगे।

बताते चले की सुलतानपुर सांसद ने कहा कि क्षेत्र में 200 प्रधान ऐसे थे जो यहां सोनू मोनू को पैसे देते थे। यह पैसा किसका है। यह शौचालय का है, आवास का है, सड़क का है, आप लोगों का पैसा है। यह सब किसकी जेब में जाता था।किसी का शौचालय नही बना तो 12 हजार जेब में डाले।

लोगों को सरकारी योजना का लाभ नहीं मिला।फर्जी रसीद लगाकर पच्चीसों लाख इधर से उधर कर दिए इन सबपर हमने केस डाल दिए हैं,17 प्रधान बचे हैं बाकी सबने पैसे वापस डाल दिए हैं चुनाव बाद इन्हें भी देना होगा, इसके बाद सांसद मेनका संजय गांधी सड़क मार्ग से लखनऊ- आगरा एक्सप्रेस वे होते हुए 14 अशोका रोड नई दिल्ली के लिए रवाना हो गयी।

सुल्तानपुर से सन्तोष पाण्डेय की रिपोर्ट

Related Articles

Back to top button