सुल्तानपुर : शिकायतकर्ता ने पुलिस पर लगाया ये बड़ा आरोप….

खबर सुल्तानपुर (Sultanpur) से हैं जहाँ आज दिनाँक 26-2-21 को कल से सोशल मीडिया चल रहे खबर से जहां एक ओर चन्द्रभद्र सिंह सोनू और उनके भाई यशभद्र सिंह मोनू को उनके विरोधियों को मुँह की खानी पड़ी। मामला दोनों भाईयों से संदर्भित हैं दोनों भाईयों की ख्याति बढ़ती देख विरोधियों द्वारा रचा गया कुचक्र एक बार फिर विफल हो गया और शिकायत करता ने माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन,प्रमुख सचिव गृह महोदय लखनऊ पुलिस महानिदेशक लखनऊ,पुलिस अधीक्षक महोदय सुल्तानपुर (Sultanpur), जिला अधिकारी सुल्तानपुर (Sultanpur) को इस बात से अवगत कराया कि ये सब इनके विरोधियों ने साजिशन फर्जी रूप से इन दोनों भाईयों को फर्जी मुकदमे में फॅसा कर बदनाम करने के लिए किया जा रहा है।

बताते चलें कि वही शिकायतकर्ता ने स्पष्ट रूप से यह भी अपने प्रार्थना पत्र में लिख कर दिया गया है और अपने वीडियो में दिए गए बयान में स्पष्ट रूप से बताया हैं कि मैं प्रार्थी बनारसी लाल सुत जगदीश प्रसाद निवास मायंग थाना-धनपतगंज कूरेभार सुल्तानपुर (Sultanpur) का रहने वाला हूँ, प्रार्थी दिनांक 25-2-2021 को सुबह करीब 9:00 बजे अपने घर में मौजूद था उसी समय प्रार्थी के घर के सामने से एक जेसीबी मशीन जा रही थी,जो की जगह कम होने के कारण प्रार्थी की दीवार से टकरा गई जिससे प्रार्थी की दीवार गिर गई प्रार्थी की दीवारों को गिरते देख किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा थाना स्थानीय पुलिस को सूचना दे दिया गया की कुछ अराजक तत्वों द्वारा प्रार्थी की जमीन पर बनी दीवार गिरा कर कब्जा कर लेने की बात की जा रही थी जिस पर थाना स्थानीय की पुलिस प्रार्थी के घर आई और तब प्रार्थी को बुला कर जबरन गाड़ी में बैठाकर थाने पर ले कर चली गई, थाने पर ले जाकर एक सादे कागज पर ज़बरन हस्ताक्षर बनवा लिया उस पर पुलिस द्वारा क्या लिखा गया वो पढ़ कर सुनाया भी नही गया प्रार्थी जब घर आया तो कुछ देर बाद पता चला कि प्रार्थी की तहरीर पर गांव के रहने वाले पूर्व विधायक चंद्र भद्र सिंह सोनू व यशभद्र सिंह मोनू सुतगण स्व:इंद्र भद्र सिंह पूर्व विधायक निवासी ग्राम मायंग थाना धनपतगंज कूरेभार के ऊपर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

ये भी पढ़ें-लखनऊ में हत्या: मेस का चार्ज हैंडओवर करने को लेकर सेना के दो सूबेदार आपस में भिड़े

तो वहीं प्रार्थी ने कहा कि जबकि उपरोक्त दोनों भाईयों के द्वारा ना तो प्रार्थी की दीवाल गिराई गई ,ना जमीन कब्जा की गई और ना ही कोई जानमाल की धमकी दी गई है थाना स्थानीय पुलिस के द्वारा उक्त लोगों के खिलाफ कैसे मुकदमा दर्ज कर लिया गया इसकी जानकारी प्रार्थी को नही है श्रीमान जी से निवेदन है कि प्रार्थी के ऊपर दबाव बनाकर थाना स्थानीय की पुलिस द्वारा जबरन पंजीकृत किए गए उपरोक्त मुकदमों को बिना गुण दोष के ही समाप्त /स्पंज किए जाने के आदेश दे जिससे की उपरोक्त फर्जी मुकदमे को खत्म किया जा सके अति महती कृपा होगी !

बताते चलें कि सुबह एक वीडियो जारी कर पुलिस अधीक्षक ने अवगत कराया की कल दिनाँक 25-2-21 को एक सूचना बनारसी लाल कसौंधन के द्वारा प्राप्त की गई थी जो कि बनारसी लाल कसौंधन के द्वारा दी गई थी या तथा उल्लेख किया गया था कि प्रार्थी की जमीन पर बनी दीवाल को जेसीबी मशीन के द्वारा पूर्व विधायक चन्द्र भद्र सिंह सोनू व यश भद्र सिंह मोनू के द्वारा गिरा दी गई थी जिस के संबंध में मेरा स्पष्ट कहना है कि आगामी चुनाव को मद्दे नज़र रखते हुए किसी भी तरह की अराजकता बर्दाश्त नहीं की जाएगी ना किसी की गुंडागर्दी बर्दाश्त की जाएगी, अगर ऐसा करता हुआ कोई पाया जाएगा तो उस पर कानूनी रूप से कार्रवाई और मुँह तोड़ जवाब दिया जाएगा!

तो वही आपको बताते चले कि बनारसी लाल कसौंधन के द्वारा एक वीडियो जारी किया गया है कि उपरोक्त जो आरोप विधायक चंद्र भद्र सिंह सोनू व यशभद्र सिंह मोनू पर लगाया गया है वो गलत है और मैंने एक एफिडेविट भी इस आशय की स्थानीय पुलिस को दे दिया है साथ ही यह भी कहा की जबरन पुलिस के द्वारा मुकदमा लिखा गया है जबकि इन दोनों भाइयों से कोई मतलब नहीं है।

Report- Santosh pandey

Related Articles

Back to top button