रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-V को मंजूरी मिलने के बाद भी करना होगा थोड़ा और इंतज़ार

कोरोना के बढ़ते मामलों को मद्देनज़र रखते हुए भारत ने रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-V को इस्तेमाल करने की मंजूरी तो दे दी है, लेकिन अभी इसे बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करने के लिए कुछ इंतज़ार करना पड़ेगा और साथ ही साथ इसके परिणाम पर नजर रखा जाएगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने तय किया है कि स्पुतनिक वी वैक्सीन लेने वाले पहले 100 लोगों पर सात दिन तक नजर रखी जाएगी। इन 100 लोगों की रिपोर्ट मिलने के बाद ही इस रुसी वैक्सीन को कार्यक्रम में शामिल किया जायेगा।

ये भी पढ़ें-चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा कल से संभालेंगे CEC का पदभार

राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह (NEGVAC) की 23वीं बैठक 11 अप्रैल को सम्पन हुई थी जिसमें यह निर्णय लिया गया था कि कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए उपलब्ध वैक्सीन की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ घरेलू टीकाकरण कार्यक्रम की गति पर भी ध्यान दिया जाये।

NEGVAC ने व्यापक वाद-विवाद के बाद सिफारिश की कि COVID-19 के लिए टीके, जिन्हें अन्य देशो में विकसित किया जा रहा है,और बनाया जा रहा है, या फिर जिन्हें USFDA, EMA, UK MHRA, PMDA जापान द्वारा प्रतिबंधित इस्तेमाल की मंजूरी मिली है या जिन्हें डब्ल्यूएचओ (आपातकालीन उपयोग सूचीकरण) के सूचीबद्ध किया गया है, उन्हें भारत में मंजूरी दी जा सकती है। हालांकि इस तरह के विदेशी टीकों को राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान में शामिल करने से पहले 100 लोगो को पर लगा के सात दिनों तक नजर रखी जायेगी।

केंद्र सरकार ने NEGVAC की सिफारिश को स्वीकार कर लिया है। इस निर्णय से भारत द्वारा विदेशी टीकोंको शीघ्र पहुंचाने की सुविधा होगी। साथ ही थोक दवा सामग्री के आयात, स्टोरेज क्षमता को बढ़ावा मिलेगा।

Note- The UP Khabar एक नया शो ला रहा है, जिसका नाम ‘जनता रिपोर्टर’ है। इस शो में हम आपके क्षेत्र की समस्याओं को आपके ही जरिए सरकार तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे। इस शो में आपको बस अपने मोबाइल फोन से अपने क्षेत्र की समस्याओं का वीडियो बनाकर हमें अपने नाम और पते के साथ इस WhatsApp (9559209076) नंबर पर फॉरवर्ड करना है। साथ ही हमारे यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब करके अपनी आवाज़ को बुलंद करें।

Related Articles

Back to top button