सीतापुर में प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत की योजनाएं चढ़ी भ्रष्टाचार की भेंट

समझ में नही आता आखिर प्रधान किस उद्देश्य के साथ मैदान में आते है।और समझ  मे ये भी नहीं आता की किस उम्मीद से लोग उसे चुन लेते हैं।अपवाद छोड़कर सभी ग्राम पंचायतों की हालत बद से बदतर है।अब आप ही तय करे कि इसके  लिए प्रधान दोषी है या फिर की उसे चुनने वाले वोटर…

ऐलिया ब्लाक क्षेत्र के तमाम गांव है जहाँ आज भी लोग खुले में शौच कर रहे

दरअसल, पूरा मामला सीतापुर जनपद के तहसील सदर के ब्लाक ऐलिया के ग्राम पंचायत रामपुरभूड़ा का है लोगो ने सवाल उठाए प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत योजना शौचालय का हो या फिर प्रधानमंत्री आवास योजना नाली निर्माण का हो भले ही जनपद सीतापुर में कागजों पर ओडीएफ भले ही घोषित कर दिया गया पर जमीनी हकीकत कुछ और ही लोग आज भी खुले में शौच करने को मजबूर हैं सीतापुर मुख्यालय से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर ऐलिया ब्लाक क्षेत्र के तमाम गांव है जहाँ आज भी लोग खुले में शौच कर रहे।

चंद रुपयों के लिए प्रधान व अधिकारियों ने अपना ईमान भी बेच दिया

जहाँ एक तरफ प्रधानमंत्री जी सपना देख रहे थे हर घर में शौचालय घर की बहू बेटियां शौच के लिए बाहर न जाये पर प्रधानमंत्री का सपने पर कुछ कागज के चंद रुपयों के लिए प्रधान व अधिकारियों ने अपना ईमान भी बेच दिया।

ये भी पढ़ें-बिजनौर: एसडीओ और जई के साथ मारपीट व बनाया बंधक

अधिकारियों ने कागज पर पूरा जनपद ओडीएफ घोसित कर दिया,वही ग्रमीणों को अभी भी आस है कि एक दिन कोई अधिकारी जांच करने आएगा तो हम लोग अपनी बात प्रधानमंत्री व योगी आदित्यनाथ तक पहुचाएंगे।

वहीं ग्रामीणों का आरोप है कई बार ब्लाक के अधिकारी जांच करने गए पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई वही ग्रामीणों की माने तो पूरी ग्राम पंचायत में शौचालय का पैसा निकल गया पर शौचालय अभी तक नही बने जो बने हैं उनमें सीट नही न ही गठ्ठे खोदे गए

रिपोटर – मदन यादव

Related Articles

Back to top button