इटावा पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के गृह जनपद में बने इटावा सफारी से दो शेरों को भेजा गया गोरखपुर

इटावा पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के गृह जनपद में बने इटावा सफारी (Etawah Safari) से दो शेरों को भेजा गया गोरखपुर। पटौदी और मरियम को ट्रक द्वारा भेजा गया, जिनको लेकर 1 डॉक्टर 1 फॉरेस्टर 2 जू कीपर की निगरानी में भेजा जाएगा।

इन दोनों को सितंबर 2019 को जूनागढ़ से लाया गया था

वहीं सपा कार्यकर्ताओं ने शेरो के जाने पर बैंड बाजो के साथ विदाई दी, इटावा सफारी (Etawah Safari) से गोरखपुर असफाक उल्ला खां प्राणी उद्यान भेजा जाएगा इन दोनों को सितंबर 2019 को जूनागढ़ से लाया गया था।

सफारी से गोरखपुर असफाकउल्लाह खां प्राणी उद्यान भेजा

इटवा सफारी (Etawah Safari)  से आज दो शेरो को गोरखपुर भेजा गया सपा कार्यकर्ताओं ने ढोल नगाड़े के बीच रवाना किये गए। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट इटावा सफारी से गोरखपुर असफाकउल्लाह खां प्राणी उद्यान भेजा गया।

ये भी पढ़ें-PSLV-C51 launch: ISRO ने लॉन्च किया नए साल का पहला मिशन, अंतरिक्ष में भेजे 19 सेटेलाइट

जिसने मरियम व पटौदी को ट्रक के जरिये रवाना किया गया शेरो की रवानगी की सूचना सपा कार्यकर्ताओं को लगी तो काफी संख्या सपा कार्यकर्ता सफारी के मेन गेट पर पहुंचे।

सफारी से 1 डॉक्टर 1 फॉरेस्टर 2 जू कीपर को भी इनके साथ भेजा

जहां पर जा रहे शेरो को नगाड़े ढोल के बीच विदा किया गया सपा कार्यकर्ताओं के गेट पर पहुंचते ही सफारी प्रशासन द्वारा सूचना जिले के अधिकारियों को दी गई तो एसडीएम सदर व सीओ सिटी व पुलिस बल मौके पर पहुंचा जहाँ पर कड़ी सुरक्षा के बीच शेरो को रवाना किया गया इसमे सफारी से 1 डॉक्टर 1 फॉरेस्टर 2 जू कीपर को भी इनके साथ भेजा गया।

सपा जिलाध्यक्ष गोपाल यादव ने बताया कि इस सफारी को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इटावा वासियों को सौगात में दी है प्रदेश के जो वर्तमान मुख्यमंत्री हैं।

उनकी अपनी कोई सोच नहीं है कोई भी जन नहीं है उन्होंने सोचा कि यहां पर भी चिड़ियाघर बनाया जाए जहां पर भी शेरों को लाया जाए जिसके चलते शेरों को यहां से मंगवाया है।

सरकार की मंशा सही हुई तो लायन सफारी खोल दी जाएगी

जिसके चलते दो शेरों को यहां से आज भेजा गया है और सफारी परिवार से जब कोई जाता है तो घर परिवार के सदस्य को ढोल नगाड़े के बीच में विदाई की गई यहां पर मानक के अनुराग शेरों की संख्या पूरी है लेकिन अभी तक लायन सफारी नहीं खोली गई है अगर सरकार की मंशा सही हुई तो लायन सफारी खोल दी जाएगी।

Related Articles

Back to top button