फेल होने के डर से छात्रा ने की आत्महत्या -सुसाइड नोट में लिखी यह बात

लखनऊ पीजीआई कोतवाली क्षेत्र की वृंदावन योजना रायबरेली रोड में मेडिकल परीक्षा (NEET) की तैयारी कर रही एक छात्र ने फांसी के फंदे से लटक कर अपनी जान दे दी .पीजीआई पुलिस को छात्रा के पास से एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें उसने लिखा है कि मैं अंदर से दबाव सहन करने के लिए मजबूत नहीं हूं। मैं अपने फैसले से नाखुश हूं मैंने अपना समय बर्बाद किया। तुमने मुझ पर भरोसा किया और मैंने भरोसा तोड़ा। मुझे माफ कर दो। पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है।

पीजीआई के कहलोन गार्डन सेक्टर-12 निवासी एकता ओझा एक निजी स्कूल में शिक्षिका हैं। एकता के मुताबिक वह शनिवार सुबह स्कूल में पढ़ाने गई थी। बेटी क्षमा ओझा (19) नीट परीक्षा की तैयारी कर रही थी। वह घर पर अकेली थी। करीब साढ़े तीन बजे एकता स्कूल से घर आई तो काफी देर तक खटखटाने के बाद भी अंदर से दरवाजा नहीं खुला। बेटी को कई आवाजें दी गईं लेकिन कोई जवाब नहीं आया। उसने अनहोनी के डर से अपने साले शत्रुघ्न दुबे और पड़ोसियों को बताया। काफी देर तक शोर मचाने के बाद भी दरवाजा नहीं खुला तो एकजुट हुए लोग दरवाजा तोड़कर अंदर चले गए कमरे का नजारा देखकर सभी के होश उड़ गए. क्षमा का शव दुपट्टे के सहारे पंखे के हैंडल से लटक रहा था। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच की तो कमरे से एक सुसाइड नोट मिला। जिसमें उन्होंने दबाव नहीं झेल पाने के कारण आत्महत्या का कदम उठाने की बात लिखी है. उन्होंने परिवार का भरोसा टूटने पर माफ करने की बात भी लिखी है। पुलिस के मुताबिक मृतक के पिता चंद्र प्रकाश ओझा सेना में हैं और फिलहाल कश्मीर में तैनात हैं।

Related Articles

Back to top button